बुधवार, 12 अक्तूबर 2011

ऐसा हो कि उंगली पकड़ ले तू,चल पडूँ मैं तू ले जाये जिस राह.

वैसे तो
मंजिल भी है,
रास्ता भी है.
पर दोनों ही है गुमराह .

कभी इसकी
तो कभी उसकी
निश्चित ही नही है
इस मन की चाह.

अनदेखा रास्ता
अनजानी मंजिल
फिर कैसे मिले
जीवन को पनाह.

ऐसा हो कि रास्ता भी तू
ऐसा हो कि मंजिल भी तू.
ऐसा हो कि उंगली पकड़ ले तू
चल पडूँ मैं तू ले जाये जिस राह.

4 comments:

रविकर ने कहा…

बढ़िया प्रस्तुति |
हमारी बधाई स्वीकारें ||

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

समर्पण में आनन्द है।

जाट देवता (संदीप पवाँर) ने कहा…

आपको गोवर्धन व अन्नकूट पर्व की हार्दिक मंगल कामनाएं,

KrRahul ने कहा…

बहुत अच्छी रचना...