बुधवार, 28 अक्तूबर 2009

मिले नही वनवारी

बड़ी लगन से चली ढूँढने
अपने श्याम सुन्दर को
मनभावन मनमोहन
श्यामल नन्द्कुंवर को

वृन्दावन उन्हें बड़ा प्रिय है
वहां ही वो रमते हैं
मन ने कहा बावरी
हम भी वही चलते है

कुञ्ज गली में छुप के ढूंढा
कहीं दिख जाए वो माखनचोर
कहीं किसी घर में दिख जाये
छाछ पे नाचता नंदकिशोर

सुबह से हो गयी शाम
पर आये नही घनश्याम
न बंशी बजी न गैया दौडी
न ही लौटे वन से वनचारी

कुञ्ज वनों में भी पुकारा
निधिवन को छान डाला
न गोपियाँ सज रही थी
न संवर रही थी वृषभानु दुलारी

शायद सांवरे इतने सुलभ नही
तभी तो छुप गए हमसे रासबिहारी

गैया दिखी दिख गए ग्वाले
दिखी वो कदम्ब की डाल
कहा लोगो ने यही पे तो
खेला करते थे गोपाल

पर मेरी निगोड़ी अँखियाँ को
वहां भी नही दिखे मुरारी

घाट पे ढूंढा ,वन में ढूँढा
फिर दिखी यमुना माई
जाके पूछा कालिया को ढूँढने
क्या आये थे यहाँ कन्हाई

शांत रहे लहरें मैया की
यहाँ फिर से मेरी आशा हारी

गोवर्धन से जाकर पूछा
मेरे प्रभु का पता बता दो
कब आयेंगे फिर तुम्हे उठाने
मुझे बस इतना बतला दो

पर गोवर्धन पे जाके भी
मुझे मिले नही गिरधारी

वृन्दावन की रज से पूछा
पंछी और बन्दर से पूछा
डाल हिला पेडों से पूछा
क्या इधर से गये है बिहारी

पर वृन्दावन आकर भी
मुझे मिले नही वनवारी
उनकी क्या गलती मै ही
हूँ तुच्छ अकिंचन नारी




4 comments:

Kshitij ने कहा…

Nice One !
Excellent Keep Moving On Path Of Bhakti.
One Day You Will Surely Get "BANVARI"

Hare Krishna
Kshitij

Dr. Mahesh Sinha ने कहा…

कब आयेंगे फिर तुम्हे उठाने
मुझे बस इतना बतला दो
सूक्ष्म भावार्थ बधाई .
आपका टिप्पणी देने वाले लिंक का रंग(नीला) बहुत हल्का है दिखाई नहीं देता

योगेश स्वप्न ने कहा…

kahin dhoondhle nahin milenge tere krishna murari
tujh men hi to chhipa hua wo govardhan dhari

nahin akinchan tu, tujhmen hai meera jaisi pyaas
jab tak usko paa na jaao nahin chhodna aas

Kshitij ने कहा…

Picture of Radha Krishna on your blog is so nice and beautifull.

HareKrishna