शुक्रवार, 19 फ़रवरी 2010

जिन्दगी तो एक सपना है

पसीने से तरबतर
गला भी सूखने लगता है
छटपटाहट में जान जाने को होती है

ऐसी समस्या कि
दिल बैठने लगता है
आँखों में बस आसूं की लड़ी होती है

कभी इतनी खुशी कि
हँसी फ़ैल जाती बरबस होठों पे
जो सोचा भी न था
वो भी क़दमों तले आ जाता है

हर रात को अक्सर
हमारे साथ ये बातें होती है
कभी हँसते कभी रोते
सुबह हमारी आँखें खुलती हैं

हँसी आती खुद पे
अरे ! ये तो सपना था
और मैंने कई रिश्ते बनाकर
एक जिन्दगी भी जी ली इसमें

जिसे हम अंधाधुंध जिए जा रहे है
वो जीवन भी तो एक सपना है
जिस दिन आँखें खुल जायेंगी
उस दिन कहाँ कोई फिर अपना है

2 comments:

kunwarji's ने कहा…

बहुत खूब...

कुंवर जी,

योगेश स्वप्न ने कहा…

वो जीवन भी तो एक सपना है
जिस दिन आँखें खुल जायेंगी
उस दिन कहाँ कोई फिर अपना है

bahut sunder abhivyakti, pankhudi ji , kabhi mere blog par bhi aao, krishna bhajan ki saugat pao.

swapnyogesh.blogspot.com